Latest News

पंजाब में पराली को लेकर किसान और सरकार आमने-सामने


पंजाब में पराली जलाने का मामला लगातार गरमाता जा रहा है। अलग-अलग किसान संगठनों की अगुवाई में किसानों ने बरनाला में महारैली की तो फरीदकोट में पराली जलाकर अपना गुस्सा जताया। मोगा में भी किसानों ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। किसान सरकार से पराली के बदले मुआवजे की मांग कर रहे हैं। किसानों का कहना है कि सरकार उनको पराली के बदले 6000 रुपये प्रति एकड़ या 200 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से मुआवजा दे। उन्होंने सरकार पर बिना किसी इंतेजाम के पराली ना जलाने का फरमान जारी करने का आरोप लगाया। किसानों का कहना है पराली जलाना किसानों की मजबूरी है और वे किसान पुकार रैली के जरिए इस मुद्दे पर सोई हुई सरकार को जगाना चाहते हैं। पिछले कई दिनों से पराली के मुद्दे पर किसान आंदोलन कर रहे हैं। शुक्रवार को किसानों ने पराली से भरी ट्रालियां संगरूर डीसी दफ्तर के बाहर फेंक दी थीं। उन्होंने चेतावनी दी थी कि अगर किसी ने उन्हें पराली जलाने से रोका तो उनके घर और दफ्तर के बाहर पराली डाल देंगे। वहीं, शनिवार को पटियाला में किसान नेताओं ने घर-घर जाकर किसानों से अपील की थी कि वे पराली जलाने से डरे नहीं। पराली जलाने वाले किसानों पर कार्रवाई के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन ने 18 अक्टूबर को रेल रोको आंदोलन का ऐलान भी किया है।