Latest News

दिल्ली : गाजीपुर मंडी में मुर्गों को काटने पर रोक

द इंडियन एक्सप्रेस

दिल्ली हाई कोर्ट ने गाजीपुर की मुर्गा मंडी पक्षियों को काटने पर रोक लगा दी है। अदालत ने अपने अंतरिम आदेश में कहा है कि दुकानदारों को मुर्गों और दूसरे पक्षियों को केवल बेचने की इजाजत होगी। चीफ जस्टिस राजेंद्र मेनन और जस्टिस वीके राव की बेंच ने कहा कि परिस्थितियों और अधिकारियों की निष्क्रियता के चलते अदालत के पास मुर्गा मंडी में पक्षियों को काटने पर रोक लगाने के अलावा कोई चारा नहीं बचा था। अदालत ने अधिकारियों को एक हफ्ते के भीतर आदेश को लागू करने और इस इलाके में बूचड़खाना बनाने का खाका पेश करने का निर्देश दिया है।

दिल्ली हाई कोर्ट इस समय एक जनहित याचिका पर सुनवाई कर रहा है। इसमें मुर्गा मंडी में अवैध रूप से पक्षियों को काटने पर आरोप लगाया गया था। इसके अलावा यह भी कहा गया था कि पक्षियों को जिन हालात में रखा जाता है, उससे उनमें एवियन फ्लू जैसी संक्रमित बीमारियां होने का खतरा रहता है।

दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने 24 अप्रैल को मुर्गा मंडी की जांच कर अदालत को अपनी रिपोर्ट दी थी। इसमें भी नियमों के उल्लंघन की बात कही गई थी। इसके अलावा प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड ने 24 अप्रैल को मुर्गा मंड़ी में चल रहे अवैध बूचड़खानों को बंद करने का भी निर्देश दिया था। लेकिन अदालत ने पाया कि पांच महीने बाद भी इस पर अमल नहीं हुआ। दिल्ली हाई कोर्ट ने अपने आदेश में साफ कहा है कि गैरकानूनी और जल प्रदूषण करने वाली गतिविधियों को किसी भी तरह से मंजूरी नहीं दी जाएगी।