Debate

विशेष चर्चा- महिला दिवस की धूम में महिला किसान कहा है गुम?


देश-दुनिया में महिलाओं के हक की बातें बड़े जोर-शोर से हो रही है लेकिन इसमें खेती करने वाली महिलाओं की आवाज गायब हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि देश में खेती-किसानी से जुड़े कामों में महिलाओं का हिस्सा 70 फीसदी से ज्यादा है लेकिन आज तक उन्हें किसान का दर्जा नहीं मिल पाया है. इतना ही नहीं संपत्ति और जमीन पर उनके अधिकार बेहद सीमित हैं. इससे न केवल खेती करने में बल्कि जिंदगी की गाड़ी खींचने में चुनौतियां से जूझना पड़ता है. किसान परिवार में पति की खुदकुशी के बाद महिला किसानों का हाल और भी बुरा हो जाता है. आखिर कब दूर होंगी महिला किसानों की समस्याएं, कब सरकार नींद से जागेगी, कब महिलाओं को जमीन और संपत्ति पर अधिकार मिलेगा? ऐसे ही तमाम सवालों पर केंद्रित है हमारी आज की विशेष चर्चा – महिला दिवस की धूम, महिला किसान कहां गुम?