Home Vishesh Charcha

Vishesh Charcha

तारीख़ का सिलसिला थमा लेकिन निर्णायक फ़ैसला ग़ायब

कृषि क़ानून को लेकर सरकार और किसानों के बीच हुई ११वें दौर की वार्ता तक भी कोई निर्णायक फ़ैसला नहीं लिया जा...

युवा और बुजुर्ग किसानों के ‘मन की बात’

ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन में शरीक युवा और बुजुर्ग किसानों की क्या है कृषि क़ानून और MSP को लेकर राय। दूसरे...

MSP की घोषणा नहीं, ख़रीद हो! माँग पर क़ायम किसान

किसानों के लिए कृषि क़ानून वापसी के साथ MSP पर ख़रीद की गारंटी क्यूँ है ज़रूरी? उत्तर प्रदेश के किसानों को क्या...

गणतंत्र दिवस पर कैसी होगी किसानों की परेड?

In conversation with #RakeshTikait​, national spokesperson of #BKU​, what’s the mood of the farmers with regard to farmer’s parade on the Republic...

कृषि क़ानून: 10वीं वार्ता रही फ़ेल या बढ़ी आगे?

कृषि क़ानून को लेकर सरकार और संयुक्त किसान मोर्चे की 20 जनवरी को विज्ञान भवन, दिल्ली में हुई 10वीं वार्ता में क्या...

भूमि अधिग्रहण को लेकर क्यूँ किसान हैं आशंकित?

भूमि अधिग्रहण को लेकर देश भर के किसानों के ज़हन में चिंता है, कृषि क़ानून आने के पहले भी ये चिंता बनी...

महिला किसान दिवस पर उनके ‘मन की बात’

'महिला किसान दिवस' पर सुनिए ख़ास बातचीत, आदिवासी महिलाओं के जल, जंगल और ज़मीन के अधिकार को लेकर उनके संघर्ष और तीनों विवादित कृषि क़ानून से क्या हैं महिला किसानों के लिए आगे की चुनौतियाँ, क्या हैं डर? हिंद किसान ने AIl India Union for forest working People (AIUFWP) और आदिवासी अधिकारों से जुड़ी ऐक्टिविस्ट- #RomaMalik और UN Secy General के Youth advisory group on Climate Change की भारत से सदस्य, उड़ीसा की #ArchnaSoreng से बातचीत की।

किसान आंदोलन में कितनी ऐक्टिव हैं महिलाएँ?

जब दिल्ली के बॉर्डर्ज़ पर किसान और जनता खेती के मुद्दों और तीन कृषि क़ानून की वापसी को लेकर डटे हुए हैं, हिंद किसान ने राजधानी दिल्ली के बॉर्डर से दूर, राजस्थान के झुनझुनू से एक महिला ऐक्टिविस्ट से बातचीत की। ये तमाम महिलाओं के साथ collectorate पर धरना दे रही हैं , उनसे जाना कि तीनों कृषि क़ानून पर बने गतिरोध पर उनकी क्या प्रतिक्रिया है, आंदोलन को लेकर उनकी क्या तैयारी है? सुनिए उनकी मोदी जी से सीधी माँग- बात सीधी, मगर तीखी।

सरकार दिखा रही बड़प्पन, फिर फ़ैसले में देरी क्यूँ?

'सीधी मगर तीखी बात' में पूर्व कृषि मंत्री, सोमपाल शास्त्री जी की कृषि क़ानून पर सरकार की तरफ़ से मामले को सुलझाने के रवैये पर बेबाक़ राय। 15 जनवरी को किसानों और सरकार के बीच 9वे राउंड की वार्ता में कृषि क़ानून पर एक बार फिर कोई सहमति नहीं बन पायी, अगली तारीख़ 19 जनवरी की तय हुई है। किसानों ने शांतिपूर्ण आंदोलन को और तेज़ करने का संदेश दे दिया है।मामले में नए पेंच जुड़ रहे हैं, सुनिए ये ख़ास बातचीत।

वार्ता की मिली नयी तारीख़, कब बनेगी बात?

१५ जनवरी को कृषि क़ानून को लेकर सरकार और किसान की वार्ता एक बार फिर बेनतीजा रही, नयी तारीख़ १९ जनवरी तय हुई है, MSP के मुद्दे पर सरकार बचती रही जबकि उसी पर निर्णायक फ़ैसला लेने के मन से आए थे संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य, आख़िर कब तक टलता रहेगा MSP का मुद्दा और MSP के अलावा भी क्यूँ ज़रूरी हैं बाक़ी मुद्दे? क्या होगा आगे?

SC के आदेश से सुलझेगा या उलझेगा मामला?

SC ने १२ जनवरी को ३ कृषि क़ानून को अमल में लाने पर अगले ऑर्डर तक रोक लगा दी है, एक कमेटी का भी गठन कर दिया है ताकि ज़मीनी हालात का जायज़ा लिया जा सके, एक तरह से जो काम सरकार तमाम बैठकों के बावजूद नहीं कर पायी, कृषि क़ानून पर बने डेड्लाक को ख़त्म नहीं कर पायी उस पर एक कदम आगे बढ़ते हुए, SC ने ऑर्डर जारी कर दिया, क्या किसानों को स्वीकार है ये ऑर्डर? कौन है इस समिति के सदस्य, कितना सही है ये फ़ैसला? सुनिए महाराष्ट्र के Farm Activist - Vijay Jawandhia जी से ये ख़ास बातचीत।

कृषि क़ानून: ८ जनवरी की बैठक में क्या हुई बातचीत?

कृषि क़ानून को लेकर आठवें दौर की वार्ता भी एक बार फिर बेनतीजा रही, कृषि क़ानून पर गतिरोध बरकरार, क्या चाहती है सरकार? किसानों को SC जाने का सुझाव सरकार की तरफ़ से क्यूँ? इन सब सवालों के जवाब के साथ साथ क्या हुआ ८ जनवरी की बैठक में, ये सब जानें इस ख़ास बातचीत में, BKU के मीडिया प्रभारी, धर्मेंद्र मालिक जी से जो कि इस बैठक में खुद मौजूद थे।

‘मिट्टी की बेटी’ ने क्या माँगा PM से

MP के हरदा ज़िले में रहने वाली 7 साल की सानिका 'मिट्टी की बेटी' भी कहलाती है, दिल्ली के बॉर्डर्ज़ पर तीन कृषि क़ानून को लेकर डटे किसानों और लोगों के बीच कुछ दिन बिताने वाली सानिका के वहाँ क्या अनुभव रहे, इन क़ानूनों को लेकर मोदी से क्या है उनकी सीधी माँग? देखिए ये ख़ास बातचीत।

26 जनवरी का Trailer 7 जनवरी को!

26 जनवरी- गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड का Trailer 7 जनवरी को! Tractor march को लेकर क्या हैं किसान और आम जनता की तैयारी, कैसा है जज़्बा? सुनिए संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य, अभिमन्यु कोहाड़ से ये ख़ास बातचीत।

कृषि क़ानून: कौन है अड़ियल, सरकार या किसान?

कृषि क़ानून को लेकर अब ८ जनवरी को फिर से होगी वार्ता, सरकार करे तो बातचीत, किसान करें तो ढीटपंती! तारीख़ पर तारीख़ देने से किसका हो रहा है नुक़सान? कृषि प्रधान देश में, लोकतंत्र में क्या ज़िद के आगे है जीत?