Home Opinion

Opinion

आखिर ‘किसान सीज़न’ का सच क्या है?

किसान अचानक राजनीतिक चर्चा के केंद्र में आ गए दिखते हैं। अब नरेंद्र मोदी सरकार भी खुद को किसानों की हितैषी दिखाने के लिए...

Insuring against Investment: How policies foster agricultural distress

2017-18 is turning out to be another poor year for agriculture. Despite improving monsoons, farmer suicides continue to mount caused by high levels of...

E-NAM: किसानों की योजना, व्यापारियों को इनाम

नरेंद्र मोदी सरकार ने अप्रैल 2016 में E-NAM यानि राष्ट्रीय कृषि बाज़ार की शुरुआत की थी। राष्ट्रीय कृषि बाज़ार की शुरुआत करते वक़्त प्रधानमंत्री...

Challenge of cleanliness: No one solution to fit all

The 20th Century saw the rise of a new idea, or rather an idea which had existed for generations, but was finally understood and...