समाचार
  • केरल में बाढ़ से भारी तबाही
  • 500 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सहायता का ऐलान
  • मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हज़ार रुपये का मुआवज़ा
  • केरल सरकार ने केंद्र से मांगी थी 2000 करोड़ रुपये की मदद
  • उत्तर प्रदेश: झांसी में आवारा जानवरों से परेशान किसान
  • फसल बर्बाद होने का सदमा नहीं झेल पाया किसान
  • दिल का दौरा पड़ने से किसान ने खेत में तोड़ा दम
  • महाराष्ट्र: पुणे में किसानों ने मौसम विभाग के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई
  • मौसम विभाग पर ग़लत जानकारी देने का आरोप लगाया
  • स्वाभिमानी शेतकारी संगठन ने मौसम विभाग पर दर्ज कराया मामला
  • मध्य प्रदेश: बीना परियोजना के ख़िलाफ़ किसानों का प्रदर्शन
  • डूब प्रभावित इलाकों के किसानों का प्रदर्शन
  • किसानों ने रखी परियोजना को रद्द करने की मांग
  • हरियाणा: पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण को रोकने की पहल
  • चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय को मिले चार करोड़ रुपये
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने दी आर्थिक सहायता

From The Desk

प्राकृतिक खेती के तहत देसी गाय मुहैया कराने की तैयारी

  • Aug. 09, 2018
फोटो स्रोत- द इंडियन एक्सप्रेस

हिमाचल प्रदेश सरकार जीरो बजट खेती के तहत हर परिवार को देसी गाय मुहैया कराने की रूप रेखा पार काम कर रही है। शिमला में आयोजित एक सम्मेलन के दौरान पद्मश्री सुभाष पालेकर ने इसका ऐलान किया। प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार ये प्रयोग कर रही है। हरियाणा और आंध्रप्रदेश में भी इस तरह का सफल प्रयोग किया जा चुका है। जीरो बजट खेती से किसानों की आय दोगुना करने के लिए कृषि विभाग ने ‘विजन-2022’ किताब का विमोचन भी किया। इस मौके पर राज्यपाल आचार्य देवव्रत, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, कृषि मंत्री रामलाल मार्कंडेय भी मौजूद रहे। सरकार के मुताबिक इसका मकसद प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देना और किसानों की आय को दोगुना करना है। हालांकि खेती पर अंग्रेजी भाषा में छपी इस किताब को लेकर राज्यपाल ने अधिकारियों की क्लास लगा दी। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि ये किताब बड़ा बजट लगा कर किसानों के फायदे के लिए बनाई गई है लेकिन किसान इस भाषा नहीं पढ़ पाएंगे। जिसके बाद मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने किताब को हिंदी में प्रकाशित कराने के दिए।