समाचार
  • केरल में बाढ़ से भारी तबाही
  • 500 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सहायता का ऐलान
  • मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हज़ार रुपये का मुआवज़ा
  • केरल सरकार ने केंद्र से मांगी थी 2000 करोड़ रुपये की मदद
  • उत्तर प्रदेश: झांसी में आवारा जानवरों से परेशान किसान
  • फसल बर्बाद होने का सदमा नहीं झेल पाया किसान
  • दिल का दौरा पड़ने से किसान ने खेत में तोड़ा दम
  • महाराष्ट्र: पुणे में किसानों ने मौसम विभाग के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई
  • मौसम विभाग पर ग़लत जानकारी देने का आरोप लगाया
  • स्वाभिमानी शेतकारी संगठन ने मौसम विभाग पर दर्ज कराया मामला
  • मध्य प्रदेश: बीना परियोजना के ख़िलाफ़ किसानों का प्रदर्शन
  • डूब प्रभावित इलाकों के किसानों का प्रदर्शन
  • किसानों ने रखी परियोजना को रद्द करने की मांग
  • हरियाणा: पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण को रोकने की पहल
  • चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय को मिले चार करोड़ रुपये
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने दी आर्थिक सहायता

From The Desk

पंजाब: प्रशासन ने धान किसानों की फसल रौंदी

  • Jun. 13, 2018
फ़ोटो स्रोत: ट्रिब्यून इंडिया

पंजाब सरकार ने धान किसानों की फसल पर ट्रैक्टर चला दिया। दरअसल राज्य के किसानों ने सरकारी निर्देशों के बावजूद धान की बुआई शुरू कर दी थी। जिसके बाद कृषि विभाग ने सरकारी निर्देश के उल्लंघन करने के मामले सख्त रवैया अख़्तियार करते हुए चार एकड़ पर लगी धान की फसल रौंद दी। मामला फ़िरोज़पुर का है। क़ानून के अनुसार किसानों से दस हज़ार रुपए प्रति हेक्टेयर जुर्माना भी वसूला जा सकता है। बता दें कि पंजाब गहरे भू-जलसंकट से जूझ रहा है। इसलिए सरकार ने राज्य के किसानों को सख़्त निर्देश दिए थे कि 20 जून से पहले धान की बुआई न की जाए। लेकिन किसानों ने 10 जून से ही बुआई शुरू कर दी। अकेले भठिंडा में अब तक 151 एकड़ ज़मीन पर धान की खेती की जा चुकी है। प्रशासन ने भठिंडा के किसानों को नोटिस जारी करते हुए कहा है कि दो दिन के अंदर बोया हुआ धान उखाड़ा जाए वरना कार्रवाई की जाएगी। प्रशासन की कड़े रुख से गुस्साए किसानों ने दो टूक कहा कि वे नोटिस से डरे हुए नहीं हैं और कृषि अधिकारियों को खेतों में घुसने नहीं दिया जाएगा।