समाचार उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में प्रधानमंत्री की किसान कल्याण रैली| गन्ना किसानों के लिए सरकार ने बड़ा फैसला लिया- पीएम| लागत से लगभग पौने दो गुना बढ़ाया गन्ना का एफआरपी- पीएम| खरीफ़ की फ़सल की एमएसपी में ऐतिहासिक बढ़ोतरी- पीएम| गांव और किसान सरकार की प्राथमिकता- पीएम| उत्तर प्रदेश के बिजनौर में गन्ना किसानों का प्रदर्शन| बकाया भुगतान और चीनी मिल चालू कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन| किसानों ने की बिजली की बढ़ी दरें वापस लेने और किसानों को पेंशन की मांग| संभल में 4 अगस्त को कई किसान संगठन जुटेंगे| स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के लिए जुटेंगे किसान| पंजाब में नशे के ख़िलाफ़ किसान संगठन ने निकाला मार्च| किसान मजदूर मुलाजिम तालमेल संघर्ष कमेटी की अगुवाई में मार्च| 23 जुलाई को किसान मुरादाबाद मंडलायुक्त कार्यालय का घेराव करेंगे| 26 जुलाई से राष्ट्रीय किसान महासंघ की किसान जागरण यात्रा की शुरुआत| 26 जुलाई से 26 अगस्त तक चलेगी यात्रा| अनिश्चितकालीन हड़ताल पर देश भर के ट्रक ऑपरेटर्स| देश के कई हिस्सों में ट्रक ऑपरेटर्स यूनियन ने प्रदर्शन किया| जरूरी सामान की आवक पर असर, मंडियों में पसरा सन्नाटा| छत्तीसगढ़ में तेज हुई चुनावी राजनीति| अजीत जोगी ने किसानों से किया बड़ा वादा| धान की एमएसपी बढ़ाने और कर्ज़ माफ़ी का वादा किया| उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली| संभल में 4 अगस्त को कई किसान संगठन जुटेंगे| स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के लिए जुटेंगे किसान| पंजाब में नशे के ख़िलाफ़ किसान संगठन ने निकाला मार्च| किसान मजदूर मुलाजिम तालमेल संघर्ष कमेटी की अगुवाई में मार्च| 23 जुलाई को किसान मुरादाबाद मंडलायुक्त कार्यालय का घेराव करेंगे| 26 जुलाई से राष्ट्रीय किसान महासंघ की किसान जागरण यात्रा की शुरुआत| 26 जुलाई से 26 अगस्त तक चलेगी यात्रा|

From The Desk

पीएम की किसान कल्याण रैली का विरोध

  • Jul. 11, 2018
फोटो स्रोत- एनडीटीवी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुक्तसर ज़िले के मलोट में किसानों को संबोधित किया। किसान कल्याण रैली में प्रधानमंत्री ने किसानों के हितों में लिए गए केंद्र सरकार के फैसलों को बताया। उन्होंने कहा कि सरकार ने लागत से डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी का वादा पूरा कर दिया है। प्रधानमंत्री ने एक बार फिर ये दोहराया कि सरकार साल 2022 तक किसानों का आमदनी दोगुनी करने के लिए लगातार कोशिश कर रही है। इस रैली में उन्होंने फसल की लागत की गणना पर उठ रहे सवालों पर भी सफाई दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि लागत की गणना में किसान की मज़दूरी, ज़मीन का पट्टा, किराया और मशीन के खर्चों को भी शामिल किया गया है। इसके अलावा उन्होंने ई-नाम और मृदा स्वास्थ्य कार्ड जैसी योजनाओँ की भी ज़िक्र किया।

वहीं प्रधानमंत्री की रैली के विरोध में सैकड़ों किसानों ने जमकर नारेबाजी की। भारतीय किसान यूनियन की अगुवाई में कई किसान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को काले झंडे दिखाने के लिए निकले। लेकिन पुलिस ने इन्हें मलोट से पंद्रह किलोमीटर पहले ही रोक लिया। इसके बाद किसानों ने सड़क पर ही नारेबाजी शुरू कर दी।