समाचार
  • केरल में बाढ़ से भारी तबाही
  • 500 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सहायता का ऐलान
  • मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हज़ार रुपये का मुआवज़ा
  • केरल सरकार ने केंद्र से मांगी थी 2000 करोड़ रुपये की मदद
  • उत्तर प्रदेश: झांसी में आवारा जानवरों से परेशान किसान
  • फसल बर्बाद होने का सदमा नहीं झेल पाया किसान
  • दिल का दौरा पड़ने से किसान ने खेत में तोड़ा दम
  • महाराष्ट्र: पुणे में किसानों ने मौसम विभाग के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई
  • मौसम विभाग पर ग़लत जानकारी देने का आरोप लगाया
  • स्वाभिमानी शेतकारी संगठन ने मौसम विभाग पर दर्ज कराया मामला
  • मध्य प्रदेश: बीना परियोजना के ख़िलाफ़ किसानों का प्रदर्शन
  • डूब प्रभावित इलाकों के किसानों का प्रदर्शन
  • किसानों ने रखी परियोजना को रद्द करने की मांग
  • हरियाणा: पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण को रोकने की पहल
  • चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय को मिले चार करोड़ रुपये
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने दी आर्थिक सहायता

From The Desk

नैफेड ने कहा गुजरात में है जंगलराज

  • Jun. 13, 2018
फ़ोटो स्रोत: इंडियन को-ऑपरेटिव

केंद्र सरकार की एजेंसी राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ (नैफेड) ने गुजरात में जंगल राज होने का आरोप लगाया। राजकोट में प्रेस वार्ता के दौरान नैफेड के चेयरमैन वाघजी बोडा ने गुजरात सरकार पर मूंगफली की खरीद में हो रही अनियमितताओं के बारे में सरकार को दोषी बताया। उन्होंने कहा कि जिन गोदामों में मूंगफली जलकर नष्ट हुईं, वे गुजरात वेयरहाउसिंग कॉर्पोरेशन, गुजकोमासोल और राज्य संचालित एपीएमसी द्वारा किराए पर लिए गए थे। वाघजी बोडा ने कहा कि कई खुले गोदामों में भी मूंगफली संग्रहित की गई थी लेकिन स्टॉक सुरक्षित है। गुजरात भी यूपी-बिहार की तरह बन गया है। यहां भी जंगल राज है। उन्होंने कहा कि कृषि मंत्री आर सी फाल्डू एमएसपी में मूंगफली की ख़रीद की अनियमितताओं के लिए नैफेड पर निराधार आरोप लगा रहे हैं। मामले की जांच होनी चाहिए। दरअसल बीते दिन गुजरात के कृषि मंत्री आर सी फाल्डू ने गोदामों में रखी मूंगफली नष्ट होने के मामले में नैफेड पर आरोप लगाया था। उसी की प्रतिक्रिया में नैफेड के चेयरमैन वाघजी बोडा ने प्रेस वार्ता की।