समाचार
  • केरल में बाढ़ से भारी तबाही
  • 500 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सहायता का ऐलान
  • मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हज़ार रुपये का मुआवज़ा
  • केरल सरकार ने केंद्र से मांगी थी 2000 करोड़ रुपये की मदद
  • उत्तर प्रदेश: झांसी में आवारा जानवरों से परेशान किसान
  • फसल बर्बाद होने का सदमा नहीं झेल पाया किसान
  • दिल का दौरा पड़ने से किसान ने खेत में तोड़ा दम
  • महाराष्ट्र: पुणे में किसानों ने मौसम विभाग के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई
  • मौसम विभाग पर ग़लत जानकारी देने का आरोप लगाया
  • स्वाभिमानी शेतकारी संगठन ने मौसम विभाग पर दर्ज कराया मामला
  • मध्य प्रदेश: बीना परियोजना के ख़िलाफ़ किसानों का प्रदर्शन
  • डूब प्रभावित इलाकों के किसानों का प्रदर्शन
  • किसानों ने रखी परियोजना को रद्द करने की मांग
  • हरियाणा: पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण को रोकने की पहल
  • चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय को मिले चार करोड़ रुपये
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने दी आर्थिक सहायता

From The Desk

दिल्ली में किसान नेताओं का प्रदर्शन

  • Aug. 09, 2018

दिल्ली में अखिल भारतीय किसान सभा ने केंद्र सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ जोरदार प्रदर्शन किया। एक तरफ जहां देशभर में जेल भरो आंदोलन में हज़ारों किसानों ने गिरफ्तारी दी, वहीं दिल्ली में किसान नेताओं ने अपनी मांगों के लिए आवाज़ बुलंद की। किसानों की पूर्ण कर्ज माफी, सीटू फॉर्मूले के मुताबिक एमएसपी, और 60 साल से ज्यादा उम्र के किसानों और खेतिहर मजदूरों को हर महीने 5 हज़ार रुपए पेंशन जैसी मांगों को लेकर देशभर में जेल भरो आंदोलन की अपील की थी। संगठन का दावा है कि देश में चार सौ से ज्यादा जिलों में करीब बीस लाख किसान इस आंदोलन में शामिल हुए हैं। एआईकेएस के महासचिव हन्नान मोल्ला ने कहा कि, मौजूदा केंद्र सरकार की नीतियां किसान विरोधी हैं और एमएसपी पर सरकार का दावा झूठा है। किसान नेताओं ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूरी सरकार किसानों और आम जनता को गुमराह कर रही है। एआईकेएस को इस आंदोलन में दलित संगठनों और वन रैंक वन पैंशन की मांग कर रहे भूतपूर्व सैनिकों ने भी साथ देने का ऐलान किया है।