समाचार
  • केरल में बाढ़ से भारी तबाही
  • 500 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सहायता का ऐलान
  • मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हज़ार रुपये का मुआवज़ा
  • केरल सरकार ने केंद्र से मांगी थी 2000 करोड़ रुपये की मदद
  • उत्तर प्रदेश: झांसी में आवारा जानवरों से परेशान किसान
  • फसल बर्बाद होने का सदमा नहीं झेल पाया किसान
  • दिल का दौरा पड़ने से किसान ने खेत में तोड़ा दम
  • महाराष्ट्र: पुणे में किसानों ने मौसम विभाग के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई
  • मौसम विभाग पर ग़लत जानकारी देने का आरोप लगाया
  • स्वाभिमानी शेतकारी संगठन ने मौसम विभाग पर दर्ज कराया मामला
  • मध्य प्रदेश: बीना परियोजना के ख़िलाफ़ किसानों का प्रदर्शन
  • डूब प्रभावित इलाकों के किसानों का प्रदर्शन
  • किसानों ने रखी परियोजना को रद्द करने की मांग
  • हरियाणा: पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण को रोकने की पहल
  • चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय को मिले चार करोड़ रुपये
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने दी आर्थिक सहायता

From The Desk

अवैध बीज से खेती कर रहे हैं कपास किसान

  • Jun. 13, 2018
फोटो स्रोत : मनी कंट्रोल

भारत के किसान मोनसैंटो कंपनी की उस बीज को अपने खेतों में बो रहे हैं, जिसे सरकार ने भारत में अब तक इजाज़त नहीं दी है। कपास के किसान जानते हैं कि अस्वीकृत बीज के इस्तेमाल से उन पर क़ानूनी कार्रवाई हो सकती है, फिर भी महाराष्ट्र के सैंकड़ों किसानों ने इसे खेत में बो रखा है। अधिकारियों के मुताबिक़ बीते दो महीनों में महाराष्ट्र सरकार एक करोड़ बीस लाख के अस्वीकृत बीज जब्त कर चुकी है। भारत ने साल 2002 में पहली बार कपास के अनुवांशिक रूप से संशोधित बीज (जीएम) के इस्तेमाल को मंज़ूरी दी थी। साल 2006 में जीएम कपास की एक और उन्नत किस्म को मंज़ूरी मिली। तब से कपास के बीज की नई नस्ल को मंज़ूरी नहीं मिली है। महाराष्ट्र के किसान कपास की प्रतिबंधित हर्बिसाइड टॉलरेंट क़िस्म के बीज को खेतों में बो रहे हैं। किसान संगठनों का कहना है कि इस मामले में किसानों के बदले बीज बेचने वाले बिचौलिए पर कार्रवाई करने की ज़रूरत है, क्योंकि किसानों को यही बिचौलिए ज़्यादा पैदावार का लालच देकर बीज बेचते हैं।