समाचार उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में प्रधानमंत्री की किसान कल्याण रैली| गन्ना किसानों के लिए सरकार ने बड़ा फैसला लिया- पीएम| लागत से लगभग पौने दो गुना बढ़ाया गन्ना का एफआरपी- पीएम| खरीफ़ की फ़सल की एमएसपी में ऐतिहासिक बढ़ोतरी- पीएम| गांव और किसान सरकार की प्राथमिकता- पीएम| उत्तर प्रदेश के बिजनौर में गन्ना किसानों का प्रदर्शन| बकाया भुगतान और चीनी मिल चालू कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन| किसानों ने की बिजली की बढ़ी दरें वापस लेने और किसानों को पेंशन की मांग| संभल में 4 अगस्त को कई किसान संगठन जुटेंगे| स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के लिए जुटेंगे किसान| पंजाब में नशे के ख़िलाफ़ किसान संगठन ने निकाला मार्च| किसान मजदूर मुलाजिम तालमेल संघर्ष कमेटी की अगुवाई में मार्च| 23 जुलाई को किसान मुरादाबाद मंडलायुक्त कार्यालय का घेराव करेंगे| 26 जुलाई से राष्ट्रीय किसान महासंघ की किसान जागरण यात्रा की शुरुआत| 26 जुलाई से 26 अगस्त तक चलेगी यात्रा| अनिश्चितकालीन हड़ताल पर देश भर के ट्रक ऑपरेटर्स| देश के कई हिस्सों में ट्रक ऑपरेटर्स यूनियन ने प्रदर्शन किया| जरूरी सामान की आवक पर असर, मंडियों में पसरा सन्नाटा| छत्तीसगढ़ में तेज हुई चुनावी राजनीति| अजीत जोगी ने किसानों से किया बड़ा वादा| धान की एमएसपी बढ़ाने और कर्ज़ माफ़ी का वादा किया| उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली| संभल में 4 अगस्त को कई किसान संगठन जुटेंगे| स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के लिए जुटेंगे किसान| पंजाब में नशे के ख़िलाफ़ किसान संगठन ने निकाला मार्च| किसान मजदूर मुलाजिम तालमेल संघर्ष कमेटी की अगुवाई में मार्च| 23 जुलाई को किसान मुरादाबाद मंडलायुक्त कार्यालय का घेराव करेंगे| 26 जुलाई से राष्ट्रीय किसान महासंघ की किसान जागरण यात्रा की शुरुआत| 26 जुलाई से 26 अगस्त तक चलेगी यात्रा|

From The Desk

भूमि अधिग्रहण के खिलाफ किसानों का अनिश्चितकालीन धरना

  • Jul. 10, 2018
फोटो स्रोत - पत्रिका

उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर में जबरन भूमि अधिग्रहण के खिलाफ सैकड़ों किसान अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए है। नारायणपुर में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के द्वारा फोर लेन सड़क बनाने के लिए किसानों को मनमानी दरों पर जमीन अधिग्रहण का नोटिस थमा दिया गया है। जिसके विरोध में गुस्साए किसानों ने शांतिपूर्ण धरना शुरू कर दिया है। प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बाजार रेट या सर्किल रेट के आधार पर मुआवजे की मांग की है। साथ ही चेतावनी भी दी है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो वे उग्र आंदोलन करेंगे। गुस्साए किसानों का कहना है कि प्राधिकरण ने आवसीय भूमि, व्यावसायिक भूमि, कृषि भूमि और सड़क के किनारे वाले भूमि का दर एक समान कर दिया है, जिससे उन्हें काफी नुकसान होगा। किसानों ने धरना देकर साफ कर दिया है कि नियमों का बिना पालन किये वो किसी भी दर पर मुआवाजा स्वीकार नहीं करेंगे।