समाचार उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में प्रधानमंत्री की किसान कल्याण रैली| गन्ना किसानों के लिए सरकार ने बड़ा फैसला लिया- पीएम| लागत से लगभग पौने दो गुना बढ़ाया गन्ना का एफआरपी- पीएम| खरीफ़ की फ़सल की एमएसपी में ऐतिहासिक बढ़ोतरी- पीएम| गांव और किसान सरकार की प्राथमिकता- पीएम| उत्तर प्रदेश के बिजनौर में गन्ना किसानों का प्रदर्शन| बकाया भुगतान और चीनी मिल चालू कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन| किसानों ने की बिजली की बढ़ी दरें वापस लेने और किसानों को पेंशन की मांग| संभल में 4 अगस्त को कई किसान संगठन जुटेंगे| स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के लिए जुटेंगे किसान| पंजाब में नशे के ख़िलाफ़ किसान संगठन ने निकाला मार्च| किसान मजदूर मुलाजिम तालमेल संघर्ष कमेटी की अगुवाई में मार्च| 23 जुलाई को किसान मुरादाबाद मंडलायुक्त कार्यालय का घेराव करेंगे| 26 जुलाई से राष्ट्रीय किसान महासंघ की किसान जागरण यात्रा की शुरुआत| 26 जुलाई से 26 अगस्त तक चलेगी यात्रा| अनिश्चितकालीन हड़ताल पर देश भर के ट्रक ऑपरेटर्स| देश के कई हिस्सों में ट्रक ऑपरेटर्स यूनियन ने प्रदर्शन किया| जरूरी सामान की आवक पर असर, मंडियों में पसरा सन्नाटा| छत्तीसगढ़ में तेज हुई चुनावी राजनीति| अजीत जोगी ने किसानों से किया बड़ा वादा| धान की एमएसपी बढ़ाने और कर्ज़ माफ़ी का वादा किया| उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली| संभल में 4 अगस्त को कई किसान संगठन जुटेंगे| स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के लिए जुटेंगे किसान| पंजाब में नशे के ख़िलाफ़ किसान संगठन ने निकाला मार्च| किसान मजदूर मुलाजिम तालमेल संघर्ष कमेटी की अगुवाई में मार्च| 23 जुलाई को किसान मुरादाबाद मंडलायुक्त कार्यालय का घेराव करेंगे| 26 जुलाई से राष्ट्रीय किसान महासंघ की किसान जागरण यात्रा की शुरुआत| 26 जुलाई से 26 अगस्त तक चलेगी यात्रा|

From The Desk

काली मिर्च के गिरते दाम से किसान परेशान

  • Jul. 11, 2018
फोटो स्रोत - द हिंदू

काली मिर्च के कम उत्पादन के बावजूद गिरते दामों ने किसानों को परेशानी में डाल दिया है। तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक तीनों काली मिर्च के शीर्ष उत्पादक राज्य है। केरल के व्यापारियों के मुताबिक वायनाड में साल 2017 में काली मिर्च की कीमत 760 से 600 रुपए किलोग्राम थी, लेकिन उसके बाद गिरकर 500 रुपए किलोग्राम तक हो गई है। फ़िलहाल इसकी कीमत 300 रुपए से 310 रुपए किलोग्राम पर पहुंच गई है। व्यापारियों के मुताबिक़ वियतनाम से आयात बढ़ने के कारण देश में काली मिर्च के दामों में कमी आई है। वियतनाम से श्रीलंका के जरिए भारत में काली मिर्च का आयात हो रहा है। ‘इंडो श्रीलंका फ्री ट्रेड’ के तहत भारत श्रीलंका से 2,500 टन काली मिर्च का आयात कर सकता है। इसके लिए भारत को सिर्फ 8 फीसदी आयात शुल्क देना होगा। वहीं आसियान व्यापार समझौते के तहत वियतनाम से सीधे आयात पर 52 फीसदी आयात शुल्क देना होगा। साल 2017 में काली मिर्च का घरेलू उत्पादन 55000 टन हुआ था जबकि 35000 टन का आयात किया गया था। जिसमें से अकेले श्रीलंका से 20,000 हजार टन का आयात किया गया। वियतनाम, इंडोनेशिया और ब्राजील से भी काली मिर्च का आयात किया गया।