Articles

रसोई का बजट बिगाड़ेगी केरल की बाढ़, महंगे हुए मसाले

केरल की भीषण बाढ़ का असर अब बाकी इलाकों में भी दिखने लगा है। केरल में फसलें बर्बाद होने और आपूर्ति में रूकावट के चलते मसालों के दाम बढ़ने लगे हैं। यह महंगाई निश्चित रूप से रसोई का बजट और आपका जायका बिगाड़ेगी।

Read more


अनंत यात्रा पर अटल, उमड़ा जन और भावनाओं का सैलाब

देश के पूर्व प्रधानमंत्री और जनप्रिय नेता अटल बिहारी वाजपेयी आज पंचतत्व में विलीन हो गए। नई दिल्ली के स्मृति स्थल पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस मौके पर उनके अंतिम दर्शनों के लिए बड़ी भारी तादाद में आम से लेकर गणमान्य लोगों की भीड़ उमड़ी।

Read more


मानसून को “सामान्य” बनाए रखने के सरकारी उपाय

मराठवाडा इलाके का परभाणी रूरल पुलिस थाना! कुछ किसान शिकायत दर्ज कराने पहुंचते हैं। उनका आरोप है कि मौसम विभाग के अधिकारियों ने खाद, बीज बेचने वाली कंपनियों के साथ सांठगांठ कर बारिश के अनुमान को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया। मानसून अच्छा रहेगा, यह मानकर उन्होंने बुवाई कर दी। लेकिन बारिश कम हुई और उन्हें लाखों का नुकसान उठाना पड़ा।

Read more


दिल्ली में भुखमरी से मौतें: कैसे ध्वस्त हुई खाद्य सुरक्षा?

आज से करीब पांच साल पहले देश की संसद में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून पास हुआ तो हेडलाइंस बनी थीं — अब देशवासियों को मिला भोजन का अधिकार। पिछले दिनों इसी संसद से महज 12-13 किलोमीटर दूर पूर्वी दिल्ली के मंडावली इलाके में तीन बच्चियों ने भुखमरी से दम तोड़ दिया।

Read more


MSP से कितना फ़ायदा?

हाल में ये ख़बर आई कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भारतीय जनता पार्टी को तीन घटनाक्रमों को लेकर आगाह किया है। चेतावनी दी है कि अगर सत्ताधारी पार्टी इन पर काबू नहीं पा सकी, तो 2019 के आम चुनाव में उसे महंगी कीमत चुकानी पड़ सकती है।

Read more


किसानों की कर्ज़ माफ़ी के पेच

पिछले साल से लेकर इस वर्ष तक जिन राज्यों में कर्ज़ माफ़ी का फ़ैसला हुआ, वहां की सरकारों के लिए भी धन जुटाना एक बड़ी समस्या रहा है। इसका असर कर्ज़ माफ़ी योजनाओं पर पड़ा। धन की सीमा के कारण सभी किसानों की ऋण मुक्ति का वादा वहां की सरकारें पूरा नहीं कर पाईं।

Read more


बटाईदारों का 'बंधु' कौन!

किसान देश के राजनीतिक एजेंडे पर हैं। आम चुनाव नज़दीक आने के साथ सरकारें और राजनीतिक दल किसानों को लुभाने की होड़ में जुटे दिखते हैं। लेकिन जिन फॉर्मूलों से वे किसानों का कल्याण करने का इरादा दिखा रहे हैं, क्या वो काफ़ी है?

Read more